Ticker

6/recent/ticker-posts

कत्थक के मशहूर नर्तक अब नहीं रहे हमारे बीच



दुनिया के सबसे जाने माने नर्तक पंडित बिरजू महाराज का हार्ट अटैक से हुआ निधन. वो दुनिया के सबसे मशहूर नर्तक में से एक थे. पद्म विभूषण से सम्मानित 83 वर्षीय बिरजू महाराज ने रविवार-सोमवार की दरमियानी रात दिल्ली में अंतिम सांस ल. उनके पोते स्वरांश मिश्रा ने यह जानकारी दी. बिरजू महाराज के निधन से संगीत प्रेमियों को लगा बड़ा झटका. बिरजू महाराज ने ना सिर्फ भारत बल्कि पूरे देश को कत्थक से एक नयी पहचान दी है. बिरजू महाराज ने  कई बॉलीवुड फिल्मों में अपने नृत्य से रंग डाले है. बिरजू महाराज कथक के पर्याय थे. 


पंडित बिरजू महाराज का जन्म लखनऊ घराने के अच्छन महाराज के घर में हुआ है . उन्होंने अपने चाचा लच्छू महाराज और शंभू महाराज से कथक सीखा था। बिरजू महाराज ने सबसे पहले सत्यजीत रे की फिल्म 'शतरंज के खिलाड़ी' में दो डांस नंबर की कोरियोग्राफी करने के साथ ही उन्हें अपनी आवाज भी दी थी। संजय लीला भंसाली की फिल्म 'देवदास' का गाना 'काहे छेड़ मोहे' को बिरजू महाराज ने कोरियोग्राफ किया था। इस गाने में माधुरी दीक्षित ने डांस किया था. 


बिरजू महाराज की पंसदीदा नृत्यांगना हमेशा मधुरी ही रही है | वह कहते थे की माधुरी भी मीना  कुमारी और वहीदा रेहमान जैसी अच्छी डांसर है | फिल्म बाजीराव मस्तानी के गाने मोहे रंग दो लाल में दीपिका पादुकोण ने पिंडित बिरजू महाराज का सिखाया कथक ही किया था। दीपिका ने एक इंटरव्यू में बताया था कि इसे शूट करते वक्त वो रो पड़ी थईं क्योंकि उनसे ठीक से डांस हो नहीं पा रहा था।


बिरजू महाराज ने सबसे ज्यादा माधुरी दीक्षित के गानों की कोरियोग्राफी की है। गायक मालिनी अवस्थी और अदनान सामी ने भी सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए उन्हें श्रद्धांजलि दी है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ