Ticker

6/recent/ticker-posts

माइक्रोसॉफ्ट बना सबसे बड़ा गेमिंग कंपनी




नई दिल्ली: हम सबने कैंडी क्रश तो ज़रूर खेला होगा, उसके डेवलपर एक्टिविशन ब्लिजार्ड को हाल ही में माइक्रोसाॅफ्ट ने 68.7 अरब डॉलर (5.14 लाख करोड़) में खरीद लिया है। माइक्रोसॉफ्ट के अब तक का सबसे बड़ा टेकओवर है जो कि 47 साल के इतिहास में नहीं हुआ। माइक्रोसॉफ्ट Xbox जैसे गेमिंगी कंपनी का भी ओनर है। 


एक्टिविशन ब्लिजार्ड एक गेमिंग प्रोडक्शन कंपनी है । एक्टिविशन ने कई गेम बनाए है जिसमें कॉल ऑफ ड्यूटी, वारक्राफ्ट, कैंडीक्रश, ओवरवॉच, हर्थस्टोन, डियाबलो, सबसे लोकप्रिय है। माइक्रोसॉफ्ट का कहना है कि है की एक्टिविशन ब्लिजार्ड के टेकओवर से वे मोबाइल, कंप्यूटर और कोंसोले में काफी तरक्की कर पाएंगे। इससे माइक्रोसॉफ्ट को डेली 40 करोड़ यूजर मिलेंगे। माइक्रोसॉफ्ट के इस टेकओवर से वे प्रोग्रामिंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में भी इन्नोवेशन करेंगे। 


मेटैवर्स में भी इसका बहुत बड़ा हाथ होगा। कहा जा रहा है कि यह चीन की टेंसेंट और सोनी के बाद माइक्रोसॉफ्ट सबसे बड़ी गेमिंग कंपनी बन जाएगी। 
ऐक्टिविशन के एंपल्येस के साथ भेदभाव का भी केस चल रहा है जिसमें औरतों के साथ दुर्व्यवहार का शिकायत था। 


Xbox फैंस काफी उत्सुक है इस कदम के लिए क्यूंकि एक्टिवीशन बहुत ही अच्छा गेमिंग कंपनी है। अब फैंस को और भी अच्छा गेम मिलेंगे। 


- अरित पांजा

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ