Ticker

8/recent/ticker-posts

Up election 2022: साइकिल की रफ्तार, सपा का प्रहार


लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में जब सरकार ने यह ऐलान किया है कि, सब लोग अपनी-अपनी पार्टियों का प्रदर्शन वर्चुअल प्लेटफार्म पर करेंगे। तो वही समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस नियम की धज्जियां उड़ा दी। कोरोना काल में बढ़ते संक्रमण को देखते हुए भी,  उन्होंने लाखों की संख्या में लोगों को बुलाकर प्रदर्शन किया और अपनी पार्टी का प्रचार किया।


भाजपा पर निशाना साधते हुए अखिलेश यादव ने यह ऐलान किया है कि, इस बार भारतीय जनता पार्टी का जाना तय है क्योंकि उनके हिसाब से 80% उत्तर प्रदेश के नागरिक समाजवादी पार्टी के साथ हैं और बचे हुए 20% जो भारतीय जनता पार्टी के साथ थे वह भी अब स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफा देने के बाद समाजवादी पार्टी के साथ जुड़ चुके हैं। भारतीय जनता पार्टी का सफाया होना तय है, स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ 11 विधायकों ने समाजवादी पार्टी को ज्वाइन किया और समारोह में भाग लिया।


कार्यक्रम को वर्चुअल रैली का नाम देते हुए उन्होंने सिर्फ एक स्क्रीन लगाई और उसे वर्चुअल प्लेटफार्म का नाम दे दिया। लाखों की तादात में लोगों ने इकट्ठा होकर कोरोना के नियमों को भंग किया। अखिलेश यादव ने यह भी कहा है कि, वर्चुअल प्लेटफॉर्म फिजिकल प्लेटफॉर्म का मुकाबला नहीं कर सकता है। समाजवादी पार्टी डिजिटल प्लेटफॉर्म के साथ-साथ,  गांव-गांव घर-घर जाकर समाजवादी पार्टी का संदेश देगी। साइकिल की रफ्तार 2022 में तेज होती नजर आएगी। इस बात को स्वामी प्रसाद मौर्य ने इस्तीफा देकर पहले ही साबित कर दिया है । किसानों से लेकर बेरोजगारी तक उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी सब के लिए सुनहरा कल साबित होगी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ