Ticker

8/recent/ticker-posts

दिल्ली के जेबकतरों का डिजिटल अवतार, 'स्वाइप मशीन' से जेब ही नहीं अब खाते साफ करते हैं शातिर



नई दिल्ली: इस डिजिटल युग और प्लास्टिक करेंसी के जमाने में चोरों ने भी अपने आप को हाई टेक कर लिया है। लिहाजा 100 में से 80 लोग कहीं भी खरीदारी करते समय प्लास्टिक कार्ड का ही इस्तेमाल करते देखे जाते हैं। ऐसे में अगर आप भी उन्हीं 80 लोगों में से एक हैं तो इस खबर का ताल्लुक आपसे ही है क्योंकि इन 80 में से 80 फीसदी लोग यही समझते हैं कि उनके कार्ड को उनके सामने स्वाइप करके कोई उनके साथ धोखा नहीं कर सकता। लेकिन ऐसे लोग शायद भूल जाते हैं कि कुछ ऐसे काबिल और हुनरमंद शातिर भी हैं जो आंखों से काजल चुराने का हुनर रखते हैं।


बीते कुछ अरसे में डेबिट कार्ड या एटीएम कार्ड से फ्रॉड करने के मामलों में बढ़ोतरी हुई है। धोखाधड़ी के इस फॉर्मेट का ग्राफ तेजी से ऊपर बढ़ा है। शातिर लोग स्वाइप मशीन से आपकी आंखों के सामने आपके कार्ड से ही आपका खाता खाली करके निकल जाते हैं और आपके पास रह जाता है वो सूखा खाली कार्ड और आंखों में अफसोस के आंसू।


बड़े ही शातिर तरीक़े से ठगते हैं शिकार को

Debit Card Fraud: कार्ड से ठगी करने वाले बदमाशों का गिरोह इन दिनों देश की राजधानी और उसके आस पास के इलाक़ों में सक्रिय है। ये स्वाइप मशीन से इतनी शातिर तरीक़े से ठगी को अंजाम देते हैं कि ठगे जाने वाले शिकार को तब पता चलता है जब उसके पास बैंक से ट्रांजेक्शन का मैसेज आता है। लेकिन तब तक इतनी देर हो जाती है कि शातिर वहां से नौ दो ग्यारह हो जाता है।


दिल्ली में कुछ रोज़ पहले ही पुलिस ने एक ऐसे ही गिरोह का भंडाफोड़ किया है जो स्वाइप मशीन से बैंक का पूरा खाता ही साफ कर देता है। दिल्ली पुलिस ने एक गिरोह के दो लोगों को पकड़ा और उनके पास से 31 डेबिड कार्ड स्वाइप मशीनें बरामद की। इसके बाद उन्हीं शातिरों की पहचान के बाद 21 मई को उत्तर पूर्वी ज़िला पुलिस ने एक और शख्स को दबोचा उसके पास से भी स्वाइप मशीन बरामद की। ये सारे मिलकर लोगों को एटीएम कार्ड की लिमिट से ज़्यादा का पैसा कार्ड से स्वाइप करके निकाल लेते थे।

 पुलिस की पूछताछ में इन शातिरों ने लूट का जो तरीका बताया वो तो और भी ज़्यादा हैरत में डालने वाला है। ये लोग असल में स्वाइप मशीन को साथ में लेकर अक्सर ऐसे एटीएम के पास घूमा करते थे जहां सुरक्षा गार्ड मौजूद नहीं होता। वहां कोई बुजुर्ग, महिला या कोई कम पढ़ा लिखा आदमी एटीएम से पैसे निकालने आता तो ये लोग तुरंत वहां पहुँच जाते और उन लोगों की पैसे निकालने में मदद करने लगते। इसी बहाने ये लोग एटीएम का पिन जान लेते। और फिर बड़ी ही सफाई से उन लोगों का एटीएम कार्ड बदल देते। उसके बाद वहां से निकलकर ये लोग उसी कार्ड और पिन नंबर के जरिए स्वाइप मशीन से खाता खाली कर देते।


पुलिस को अभी हाल ही में ऐसी शिकायत खजूरी ख़ास इलाके में मिली। यहां एक शख्स का एटीएम कार्ड बदल दिया और उसके खाते से 30 हज़ार रुपये निकाल लिये। शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने जब इलाके की छानबीन की तो शातिर पकड़ में आए।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ