Ticker

8/recent/ticker-posts

चौधरी चरण सिंह की पुण्यतिथि पर समर्पित होगी महापंचायत: नरेश टिकैत



मेरठ: भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं बालियान खाप के मुखिया चौधरी नरेश टिकैत ने कहा है कि 29 मई को मुजफ्फरनगर के काकड़ा गाँव में होने वाली सर्वखाप महापंचायत पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह जी की पुण्यतिथि पर उन्हें समर्पित होगी। उन्होंने कहा यह पंचायत कोई मामूली कार्यक्रम नहीं है बल्कि आपके वजूद का इम्तिहान है। इस पर किसानों में फूट डलवाने की कोशिश करने वालों की निगाहें टिकी हैं। इसलिए किसान हमेशा की तरह सेवा और सत्कार की मिसाल पेश करें और हर घर से लोगों को पंचायत में शामिल होना चाहिए। इस पंचायत में किसानों के हक के लिए भावी नीतियाँ बनाई जायेगी। 



सर्व खाप मंत्री सुभाष बलियान ने कहा कि जब जब किसान पर किसी भी सरकार ने उँगली उठाई है सर्वखाप ने एक होकर साथ दिया है। सैंकड़ों साल पुराना इतिहास है यहाँ बादशाहों ने आकर घुटने टेके हैं।



भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत ने कहा है कि वह किसी राजनीतिक दल का विरोध नहीं बल्कि सरकार की गलत नीतियों का विरोध करते हैं सरकार ने घोषणा पत्र में किसानों की विद्युत की आधी दरें करने का वायदा किया था लेकिन अब वादाखिलाफी करते हुए दाम बढ़ाकर नलकूपों पर मीटर लगाए जा रहे हैं। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर नलकूपों पर मीटर लगाने बंद नहीं किए तो मीटरों को उतार कर थानों में भर दिया जायेगा दूसरी तरफ 10 साल पुराने ट्रैक्टरों / वाहनों को बंद करने को लेकर भी सरकार की गलत नीति को सुधारना जरूरी है। उन्होंने कहा जज, डॉक्टर और किसान के ट्रैक्टर और अन्य कम चलने वाली गाड़ियों का मुकाबला रोडवेज की गाड़ियों से करते हैं जबकि माइलेज पर आधारित गाड़ियों को रिजेक्ट किया जाना चाहिए। 



यदि ट्रैक्टरों को बंद करने का प्रयास कर रही सरकार अपनी नीति वापस नहीं लेती है तो किसान लखनऊ की सड़कों पर ट्रैक्टर लेकर अपने हक के लिए पहुँचेंगे। उन्होंने कहा कि हम हक के लिए गोली का सामना करने के लिए भी तैयार है। पिछले दिनों गाजीपुर बॉर्डर पर चल रहे आँदोलन के दौरान किए गए वायदों पर भी सरकार चुप्पी साधे है। किसान इन माँगों को भूले नहीं है। हम शहीद किसानों के परिवारों के साथ खड़े हैं। चुप नहीं बैठेंगे। उन्होंने दूसरे राज्य की सरकार से ₹3,00,000 तीन लाख रुपये प्रति किसानों को दिलवाए हैं लेकिन उत्तर प्रदेश की सरकार के पास क्या पैसा नहीं है ? शायद नियत नहीं है जो चुप बैठी हुई है।



चौधरी राकेश टिकैत जी ने कहा कि किसान सरकार से मुद्दों पर बात करना चाहता है। बैठ कर बात कर लें वर्ना किसान सड़क पर उतरने को मजबूर होंगे। उन्होंने कहा  यह सरकार जालसाज है।वायदा खिलाफी करती है। हक माँगने पर किसानों को डराने धमकाने की कोशिश ना करें। तलवारों की नोक पर  यहाँ सत्तायें नहीं चलेंगी। मैं कहना चाहता हूँ हम राजनीतिक नहीं हैं हमें किसी भी पार्टी से कोई पक्षपात नहीं है। हम किसी के पक्षधर नहीं हैं लेकिन अगर गलत नीति लाओगे और वादाखिलाफी करोगे तो विरोध होगा या तो सरकार बातचीत से समाधान निकाल ले अन्यथा हम सड़क पर सरकार को बुलाना जानते हैं।



राष्ट्रीय प्रेस प्रभारी शमशेर राणा ने किसानों से मनमुटाव छोड़कर पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित करते हेतु पहुँचने की अपील की है तथा 10 साल पुराने ट्रैक्टरों / वाहनों को रिजेक्ट करने की पॉलिसी में बदलाव लाने के मद्देनजर शहरी नागरिकों से भी मुद्दे में शामिल होने की उम्मीद जताई है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ