Ticker

8/recent/ticker-posts

किसको ढूँढती है माफिया डॉन बृजेश सिंह की निगाहें, कौन है ये बीकेडी?


           UP News BJP Not Yet Declared Candidate Against Brijesh Singh In Varanasi In  MLC Election | UP News : बीजेपी ने वाराणसी में बृजेश सिंह के खिलाफ अब तक  घोषित नहीं किया



नई दिल्ली - वाराणसी सेंट्रल जेल में 13 साल तक रहने के बाद पूर्वांचल का डॉन बृजेश सिंह अब जेल से रिहा हो चुका है बृजेश सिंह अब अपनी पत्नी अन्नपूर्णा सिंह और भतीजे सुशील सिंह के साथ साधारण जीवन व्यतीत कर रहे हैं लेकिन आज भी बृजेश सिंह की निगाहें उस चेहरे को तलाशती रहती है जिसे सिर्फ बृजेश पहचानते हैंजिसे सिर्फ उसने ही देखा है। 



बृजेश सिंह और मुख्तार अंसारी की अदावत तो जगजाहिर है बाहुबली मुख्तार अंसारी बांदा जेल में बंद हैराजनीतिक समीकरणों केचलते मुख्तार अंसारी का गैंग लगभग खत्म हो चुका है मुन्ना बजरंगीमोहम्मद मेराजसंजीव जीवा माहेश्वरीराकेश पांडे जैसे तमामवफादार या तो मारे गए या फिर सलाखों के पीछे हैं वहीं डॉन बृजेश सिंह अपनी राजनीतिक पैठ के चलते आज मुख्तार पर भारी है।



ऐसे में माफिया बृजेश सिंह को अगर किसी से खतरा सता रहा है तो सिर्फ बीकेडी उर्फ इंद्रदेव सिंह सेजिसे कोई नहीं जानता की वहदिखता कैसा हैखबरों के अनुसार बीकेडी की भी बृजेश की तरह रूप बदलने में माहिर माना जाता हैं बृजेश सिंह को मुख्तार अंसारी से ज्यादा खतरा बीकेडी से हैआपको बता दें बीकेडी के ऊपर उत्तर प्रदेश पुलिस ने एक लाख रुपए काइनाम रखा हैलेकिन चौकने वाली बात ये है कि उसकी एक भी तस्वीर उत्तर प्रदेश पुलिस के पास नहीं है। 



क्या है कारण इस दुश्मनी का ?

बीकेडी उर्फ़ इंद्रदेव सिंह और डॉन बृजेश सिंह की दुश्मनी दशकों पुरानी है दरअसल बृजेश सिंह के पिता रविंद्र नाथ सिंह उर्फ भुल्लनसिंह की हत्या में पांचू सिंह और ओमप्रकाश सिंह उर्फ लुल्लू सिंह नामजद किए गए थे अपने पिता की हत्या का बदला लेने के लिएअपराध के रास्ते पर चलने वाले बृजेश सिंह ने पांचू सिंह के पिता हरिहर सिंह और उसके चचेरे बड़ा भाई बनारसी सिंह की हत्या कर दीगई थी तभी 10 जनवरी 1999 को वाराणसी पुलिस ने पांचू सिंह और उसके साथी बंसी सिंह का एनकाउंटर कर दिया। 




बृजेश सिंह के कट्टर विरोधी गुट में हरिहर सिंह का नाम भी गिना जाता था।हरिहर सिंह के पाँच लड़के थे इंद्र प्रकाश सिंह उर्फ़ पाचू सिंह, सत्यदेव सिंह उर्फ़ साचू सिंह, सिद्धार्थ नाथ सिंह उर्फ़ सीकेडी, इंद्रदेव सिंह उर्फ़ बीकेडी। वाराणसी में माफिया बृजेश सिंह के गुट परकाम करने वाले एक रिटायर्ड अधिकारी ने साफ बताया रंजिश की शुरुआत बृजेश सिंह के पिता के समय से हुई है। जब डॉन बृजेशसिंह के पिता रविंद्र नाथ सिंह ने बाहुबली मुख़्तार अंसारी के आदमी हरिहर सिंह और उसके बेटे पांचू सिंह की जमकर पिटाई कर दी थी।जब बाद में रविंद्र नाथ सिंह की हत्या हुई तो उसमें नाम हरिहर सिंह और पांचू सिंह का आया जिसके बाद आरोप लगा कि पिता कीहत्या का बदला लेने के लिए बृजेश सिंह ने हरिहर सिंह की हत्या कर दी थी। 




इंद्रदेव सिंह उर्फ़ बीकेडी पर मौजूदा वक्त में उत्तर प्रदेशपुलिस ने एक लाख रुपए का इनाम घोषित कर रखा है लेकिन बीकेडी को आज तक किसी पुलिस वाले ने नहीं देखा ना ही पुलिस केपास बीकेडी की कोई उसकी तस्वीर है। ऐसे में डॉन बृजेश सिंह को अगर किसी से खतरा है तो वह सिर्फ बीकेडी उर्फ इंद्रदेव सिंह सेजिसे कोई नहीं देखा ना कोई जानता शायद इसीलिए बृजेश सिंह जब भी घर से बाहर आया तो निगाहें हमेशा चौकन्नी रहती हैं, बृजेशको वफादारों की फौज सुरक्षा घेरे में लिए रहती है। हाली में बृजेश सिंह की मुलाक़ात अखिलेश यादव से हुई थी जब वह मुलायम सिंहको दी श्रद्धांजलि देने गये थे। तब भी बृजेश सिंह के साथ कई सुरक्षा कर्मी आये थे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ