Ticker

8/recent/ticker-posts

Header Ads Widget


 

हैफेड 67 हजार टन से अधिक गेहूं का करेगा ऑनलाइन नीलामी, ये है ऑक्शन का प्रोसेस




श्रेय - TV9HINDI


हरियाणा राज्य सहकारी आपूर्ति और विपणन संघ (हैफेड) ने पिछले कटाई के मौसम (अप्रैल-जून) के दौरान हरियाणा और मध्य प्रदेश से व्यावसायिक रूप से खरीदे गए 67,363.62 टन गेहूं की बिक्री के लिए बोली लगाने को लेकर आवेदन मांगा है. खास बात यह है कि इस बार गेहूं की बिक्री ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से की जाएगी. वहीं, हैफेड ने अपनी वेबसाइट पर ऐलान किया है कि ऑनलाइन बोली/ई-नीलामी एनसीडीईएक्स ई मार्केट्स (‘एनईएमएल’) प्लेटफॉर्म, स्टार एग्रीबाजार टेक्नोलॉजी (एग्रीबाजार) और ई-टेक इनोवेटिव सर्विस प्राइवेट लिमिटेड पर होगी.


कृषि जागरण के मुताबिक, 26,968.56 टन गेहूं हरियाणा के फतेहाबाद जिले में स्टॉक है. वहीं, उज्जैन, इंदौर, देवास, विदिशा, गंजबासौदा, सीहोर और भोपाल में 40,395.06 टन गेहूं का भंडारण है, जिसकी बिक्री भी मध्य प्रदेश में ही होगी. खास बात यह है कि यह हैफेड का गेहूं बेचने का सातवां प्रयास है. इसके पहले भी वह 4 लाख टन से अधिक की गेहूं बेचना का प्रयास किया था, लेकिन उसे सफलता नहीं मिली थी.


डिपो से उठाने के लिए कहा जाना चाहिए

वहीं, एक आटा मिलर ने कहा है कि मुख्य मुद्दा वह मूल्य होगा जिस पर एफसीआई गेहूं बेचता है, क्योंकि हाल ही में हैफेड के टेंडर में गेहूं 2,443.55 रुपये प्रति क्विंटल पर बेचा गया था. केंद्र ने 2022-23 के लिए गेहूं की आर्थिक लागत 2,588.70 रुपये रहने का अनुमान लगाया है. आटा मिलर ने कहा है कि यदि मूल्य नियंत्रण लक्ष्य है, तो पूरे देश में एक समान बिक्री मूल्य होना चाहिए और मिलरों को नामित डिपो से उठाने के लिए कहा जाना चाहिए.


खुदरा मुद्रास्फीति 12.96% थी

नवंबर में अनाज (चावल और गेहूं) में खुदरा मुद्रास्फीति 12.96% थी, जोमसालों के बाद दूसरे स्थान पर है. उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, इस साल जनवरी से पूरे भारत में गेहूं की औसत खुदरा कीमतों में 13.4 फीसदी और आटा में 18 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. केंद्र ने इस साल फरवरी में ओएमएसएस गेहूं नीति की घोषणा की थी, जिसके तहत आरक्षित मूल्य 30 सितंबर तक 2,200 रुपये प्रति क्विंटल और अक्टूबर से दिसंबर तक 2,225 रुपये तय किया गया था. हालांकि, 2022-23 के रबी विपणन सीजन (अप्रैल-मार्च) के दौरान गेहूं की खरीद 15 साल के निचले स्तर 187.9 लाख टन तक गिरने के बाद सरकार ने ओएमएसएस को निलंबित कर दिया.

श्रेय - TV9HINDI

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ